Gussa shayari

gussa shayari

मैं बदला नहीं, आजकल बस अंदाज सही है
खामोश रहता हूं पर गुस्से का मिजाज वही है.

READ :  Ghalib shayari

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *